संविधान दिवस पर हिंदी में शायरी

संविधान दिवस  जुडी कुछ आप शायरी

अजीब है न हमारे देश का संविधान…
गीता पर हाथ रखकर कसम खिलायी जाती है सच बोलने के लिये..
मगर गीता पढ़ाई नहीं जाती सच को जानने के लिये..!

कुरान कहता है की मुसलमान बनो

बाइबिल कहता है की इसाई बनो 
भागवत गीता कहता है की हिन्दू बनो
लेकिन मेरे बाबा साहेब का संविधान कहता है 
की एक अच्छे मनुष्य बनो 

बाबा तेरी कलम के बल हम राज करते है 

   तेरी करनी पे बाबा  हम नाज करते है 
          बदलेगा वक्त और जमाना भी
जय भीम उद्घोष से ये आगाज करते है 

मै राजनीती में सुख भोगने नही 
अपितु हमारे दबे कुशले भाई को 
हक़ दिलाने आया हु by br अम्बेकर 

जल्द पूर्ण अपलोड कर दिया जाएगा

Post a Comment

0 Comments